Epf jankari

Know all about Epf/Eps/Esic/Uan/Gratuity/Pension informations in Hindi

What is VPF? VPF Kya Hai?(Voluntary Provident Fund)

दोस्तों हम अपने पिछले पोस्टों में जान चुके हैं कि EPS क्या है? NPS क्या है? EPF क्या है? PPF क्या है? और इसी क्रम में आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे की VPF क्या है? और इस पोस्ट में उन सवालों का जवाब भी मिल जाएगा जो सर्च किया जाता है “क्या कोई कर्मचारी 12% से अधिक कंट्रीब्यूशन इपीएफ में कर सकता है?” can a employee contribute more than 12% in epf account?

What is VPF? VPF Kya Hai?(Voluntary Provident Fund)

वीपीएफ ईपीएफ का ही एक अपग्रेडेड अकाउंट है जिसमें कर्मचारी का 12% पीएफ मैं कंट्रीब्यूशन के अलावा उसकी स्वैच्छिक कंट्रीब्यूशन भी शामिल होती है, यदि कोई कर्मचारी ईपीएफ में नियमित 12% योगदान से अधिक का योगदान करना चाहता है, तो वह VPF ACCOUNT के जरिए अपने स्वैच्छिक योगदान कर सकता है जिसे वीपीएफ (VPF) अकाउंट कहते हैं|

VPF का फुल फॉर्म क्या है? VPF KA FULL FORM KYA HAI?

वीपीएफ का फुल फॉर्म होता है= VOLUNTARY PROVIDENT FUND
VPF FULL FORM
जिसे आप हिंदी में “स्वैच्छिक भविष्य निधि” भी कह सकते हैं|

जैसा की आप सभी को पता है कर्मचारी के BASIC और DA का 12% ईपीएफ में जमा होता है और 12% नियोक्ता द्वारा ईपीएफ (3.67%) तथा पेंशन(8.33%) में जमा किया जाता है| यदि कोई कर्मचारी अपने BASIC और DA में से 12% से अधिक का योगदान ईपीएफ में करना चाहता है अर्थात ईपीएफ में 12% से अधिक जमा करना चाहता है, तो वह अपने नियोक्ता के पास VPF का रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरवाकर अपने EPF अकाउंट को VPF अकाउंट में अपग्रेड कर सकता है, जिसके तहत कर्मचारी अपने बेसिक और डीए का अधिकतम 100% तक का हिस्सा ईपीएफ में जमा कर सकता है और यह एक बेस्ट सेविंग का ऑप्शन बन सकता है|

क्या नियोक्ता भी उतना ही जमा करेगा जितना कर्मचारी?

कर्मचारी अपने बेसिक और डीए का अधिकतम 100% तक का हिस्सा e.p.f. में जमा कर सकता है लेकिन यह बात ध्यान रखना जरूरी है कि नियोक्ता अपने 12% कंट्रीब्यूशन पर ही सीमित रहेगा अर्थात नियोक्ता द्वारा 12% ही ईपीएफ मैं जमा किया जाएगा| केवल कर्मचारी अपने स्वैच्छिक योगदान इसके तहत कर सकता है|

VPF अकाउंट में कितना ब्याज मिलता है?

कर्मचारी द्वारा किया गया अधिकतम योगदान पर भी ईपीएफओ द्वारा वही ब्याज दिया जाएगा जो इपीएफ अकाउंट पर दिया जाता है| और इसलिए यह एक बेस्ट सेविंग स्कीम बन जाता है| आपको बता दें फिलहाल (2018-19) ईपीएफओ द्वारा पीएफ खातों पर 8.65% की दर से ब्याज दिया जा रहा है और यदि कर्मचारी अपने सैलरी का अधिकतम हिस्सा ईपीएफ में जमा करता है तो उसे उस पर भी अच्छे दर पर ब्याज मिलेगा जो किसी भी बैंक मैं नहीं मिलता है और इसका यह भी फायदा है कि कर्मचारी चाहे तो अपने बेसिक और डीए का अधिकतम 100% तक जितना चाहे उतना जमा कर सकता है|

FAQs on Voluntary Provident Fund

1.Who can invest in Voluntary Provident Fund?
वह कर्मचारी जो सैलरी के तौर पर मासिक वेतन प्राप्त करते हैं और ईपीएफओ के दायरे में आते हैं VPF ACCOUNT में इन्वेस्ट कर सकते हैं|

2.Benefits of Voluntary Provident Fund
ईपीएफ में वही ब्याज दर मिलता है जो ईपीएफओ द्वारा प्रत्येक वित्त वर्ष के लिए घोषणा की जाती है जो कि किसी भी बैंक द्वारा नहीं दिया जाता है|

3.Is VPF is a safe investment?
VPF भारत सरकार द्वारा संचालित किया गया योजना है जो अन्य किसी योजनाओं से काफी सुरक्षित है और यह पैसा बचत करने का एक बेहतर उपाय है|

6.Easy To Apply
VPF खाते का पैसा निकालना अथवा इसे ट्रांसफर करना भी आसान है कर्मचारी अपने HR&ADMIN विभाग में जाकर इसके लिए आवेदन कर सकता है अथवा यूएएन मेंबर पोर्टल के जरिए निकासी अथवा ट्रांसफर हेतु ऑनलाइन आवेदन कर सकता है|

Related Posts

One thought on “What is VPF? VPF Kya Hai?(Voluntary Provident Fund)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *